Translate

Monday, 26 September 2016

Hanuman shabar kavach श्री हनुमान रक्षा शाबर कवच

श्री हनुमान रक्षा शाबर कवच

हनुमान जी के कुछ सिद्ध मन्त्रों के प्रयोगहनुमान जी की किसी भी मंत्रजप से पहले निचे दिए कवच को सिद्ध करले |
उनके किसी भी मंत्रजप से पूर्व स्वयं की रक्षा के लिए इस कवच को पड़कर अपने छाती पर फूक मारें फिर आप उनके किसी भी मंत्र का अनुष्ठान कर सकते है ।

  हनुमान जी के किसी भी मंत्र की साधना के पहले हनुमान जी को चोला चढ़ाएं । रक्षा के लिए गुरु से प्राप्त किसी भी हनुमन्मंत्र का  उपयोग कर सकते हैं।

रक्षा-कारक  शाबर मन्त्र  {कवच }:-

“श्रीरामचन्द्र-दूत हनुमान !
तेरी चोकी – लोहे का खीला, भूत का मारूँ पूत ।
डाकिन का करु दाण्डीया । हम हनुमान साध्या ।
 मुडदां बाँधु । मसाण बाँधु । बाँधु नगर की नाई ।
भूत बाँधु ।पलित बाँधु । उघ मतवा ताव से तप ।
घाट पन्थ की रक्षा – राजा रामचन्द्र जी करे ।
बावन वीर, चोसठ जोगणी बाँधु ।
 हमारा बाँधा पाछा फिरे, तो वीर की आज्ञा फिरे ।
 नूरी चमार की कुण्ड मां पड़े । तू ही पीछा फिरे, तो माता अञ्जनी का दूध पीयाहराम करे ।स्फुरो मन्त्र,ईश्वरी वाचा ।"

विधिः- उक्त मन्त्र का प्रयोग कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को ही करें । प्रयोग हनुमान् जी के मन्दिर में करें । पहले धूप-दीप-अगरबत्ती-फल-फूल इत्यादि से पूजन करें । सिन्दूर लगाएँ, भोग हेतु गेहूँ के आटे का एक बड़ा रोट बनाये  । उसमें गुड़ व घृत मिलाए । साथ ही इलायची-जायफल-बादाम-पिस्ते इत्यादि भी डाले तथा इसका भोग लगाए ।

भोग लगाने के बाद मन्दिर में ही हनुमान् जी के समक्ष बैठकर उक्त मन्त्र का १२५ बार जप करें । जप के अन्त में हनुमान् जी के पैर के नीचे जो तेल मिश्रित सिंदूर होता है, उसे साधक अँगुली से लेकर स्वयं अपने मस्तक पर लगाए । इसके बाद फिर किसी दूसरे दिन मंगलवार या शनिवार को उसी समय उपरोक्तानुसार पूजा कर, काले डोरे में २१ मन्त्र पढ़े और पढ़कर गाँठ लगाए , इसी प्रकार 21 गांठ लगाये तथा डोरे को गले में धारण करे ।

मांस-मदिरा का सेवन न करे । इससे सभी प्रकार के वाद-विवाद में जीत होती है । मनोवाञ्छित कार्य पूरे होते हैं तथा शरीर की सुरक्षा होती है ।

इसी प्रकार गण्डा मंगलवार को बनाकर छोटे बच्चों और बड़ों को भी नजर, तंत्र मंत्र, टोटके आदि से सुरक्षा हेतु पहनाया जा सकता है।

अन्य किसी जानकारी, समस्या समाधान, कुंडली विश्लेषण हेतु सम्पर्क कर सकते हैं।

।।जय श्री राम।।
7579400465
8909521616(whats app)

For more easy & useful remedies visit :-
https://jyotish-tantra.blogspot.in

No comments:

Post a comment